“पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने  अपने कार्यकाल के खनन मामले पर सीबीआई की कार्रवाई के बाद पूछताछ की आशंका पर कहा कि वह जवाब देने के लिए तैयार हैं।”

लेकिन यह बात भाजपा को याद रखना चाहिए कि वह जिस कार्य संस्कृति को छोड़कर जा रही है, उसको भी सामना करना पड़ेगा।
लेकिन यह बात भाजपा को याद रखना चाहिए कि वह जिस कार्य संस्कृति को छोड़कर जा रही है, उसको भी सामना करना पड़ेगा।

पूर्व मुख्यमंत्री ने यहां संवाददाताओं से बातचीत में खुद पर सीबीआई जांच की आंच पड़ने की आशंका के सवाल पर जवाब में कहा कि पार्टी इस कोशिश में है कि ज्यादा से ज्यादा लोकसभा सीटें जीती जाये। जो हमें रोकना चाहते हैं, उनके पास सीबीआई है।

एक बार कांग्रेस ने भी सीबीआई जांच करायी थी, तब भी पूछताछ हुई थी। बावजूद इसके यदि भाजपा यह सब करा रही है और सीबीआई पूछताछ करेगी तो हम जवाब देने को तैयार हैं। लेकिन जनता भी भाजपा को जवाब देने के लिये तैयार बैठी है। वह यहीं नहीं रुके, उन्होंने दोहराया कि आखिर सीबीआई छापेमारी क्यों कर रही है? जो पूछना है हमसे पूछ ले, लेकिन भाजपा के लोग यह याद रखें कि जिस संस्कृति वे छोड़कर जा रहे हैं, उसका सामना उन्हें भी कल करना पड़ेगा।

सपा मुखिया ने व्यंग्यात्मक लहजे में कहा कि अब तो सीबीआई को बताना पड़ेगा कि हमने गठबंधन में कितनी-कितनी सीटें बांटी हैं? लेकिन मुझे खुशी इस बात की है कि कम से कम भाजपा ने तो अपना रंग दिखा ही दिया। भाजपा चाहती है कि जैसा उसका सियासी शिष्टाचार है, वैसा ही दूसरे दलों का भी हो जाए। लेकिन हम अपना राजनीतिक शिष्टाचार नहीं बदलेंगे। अगर कांग्रेस चोर बोल रही है, तो भाजपा चाहती है कि हम भी उसे चोर बोलें।

यहां बताना जरूरी है कि पूर्व सपा सरकार के शासनकाल 2012 से 2016 के बीच राज्य में हुए खनन घोटाला मामले में सीबीआई ने शनिवार को कई जिलों में डीएम रह चुकीं आईएएस अधिकारी बी.चंद्रकला के लखनऊ स्थित घर पर छापा मारा था।
पूर्व मुख्यमंत्री ने यहां संवाददाताओं से बातचीत में खुद पर सीबीआई जांच की आंच पड़ने की आशंका के सवाल पर जवालेकिन यह बात भाजपा को याद रखना चाहिए कि वह जिस कार्य संस्कृति को छोड़कर जा रही है, उसको भी सामना करना पड़ेगा।

पूर्व मुख्यमंत्री ने यहां संवाददाताओं से बातचीत में खुद पर सीबीआई जांच की आंच पड़ने की आशंका के सवाल पर जवाब में कहा कि पार्टी इस कोशिश में है कि ज्यादा से ज्यादा लोकसभा सीटें जीती जाये। जो हमें रोकना चाहते हैं, उनके पास सीबीआई है।

एक बार कांग्रेस ने भी सीबीआई जांच करायी थी, तब भी पूछताछ हुई थी। बावजूद इसके यदि भाजपा यह सब करा रही है और सीबीआई पूछताछ करेगी तो हम जवाब देने को तैयार हैं। लेकिन जनता भी भाजपा को जवाब देने के लिये तैयार बैठी है। वह यहीं नहीं रुके, उन्होंने दोहराया कि आखिर सीबीआई छापेमारी क्यों कर रही है? जो पूछना है हमसे पूछ ले, लेकिन भाजपा के लोग यह याद रखें कि जिस संस्कृति वे छोड़कर जा रहे हैं, उसका सामना उन्हें भी कल करना पड़ेगा।

सपा मुखिया ने व्यंग्यात्मक लहजे में कहा कि अब तो सीबीआई को बताना पड़ेगा कि हमने गठबंधन में कितनी-कितनी सीटें बांटी हैं? लेकिन मुझे खुशी इस बात की है कि कम से कम भाजपा ने तो अपना रंग दिखा ही दिया। भाजपा चाहती है कि जैसा उसका सियासी शिष्टाचार है, वैसा ही दूसरे दलों का भी हो जाए। लेकिन हम अपना राजनीतिक शिष्टाचार नहीं बदलेंगे। अगर कांग्रेस चोर बोल रही है, तो भाजपा चाहती है कि हम भी उसे चोर बोलें।

यहां बताना जरूरी है कि पूर्व सपा सरकार के शासनकाल 2012 से 2016 के बीच राज्य में हुए खनन घोटाला मामले में सीबीआई ने शनिवार को कई जिलों में डीएम रह चुकीं आईएएस अधिकारी बी.चंद्रकला के लखनऊ स्थित घर पर छापा मारा था।ब में कहा कि पार्टी इस कोशिश में है कि ज्यादा से ज्यादा लोकसभा सीटें जीती जाये। जो हमें रोकना चाहते हैं, उनके पास सीबीआई है।

एक बार कांग्रेस ने भी सीबीआई जांच करायी थी, तब भी पूछताछ हुई थी। बावजूद इसके यदि भाजपा यह सब करा रही है और सीबीआई पूछताछ करेगी तो हम जवाब देने को तैयार हैं। लेकिन जनता भी भाजपा को जवाब देने के लिये तैयार बैठी है। वह यहीं नहीं रुके, उन्होंने दोहराया कि आखिर सीबीआई छापेमारी क्यों कर रही है? जो पूछना है हमसे पूछ ले, लेकिन भाजपा के लोग यह याद रखें कि जिस संस्कृति वे छोड़कर जा रहे हैं, उसका सामना उन्हें भी कल करना पड़ेगा।

सपा मुखिया ने व्यंग्यात्मक लहजे में कहा कि अब तो सीबीआई को बताना पड़ेगा कि हमने गठबंधन में कितनी-कितनी सीटें बांटी हैं? लेकिन मुझे खुशी इस बात की है कि कम से कम भाजपा ने तो अपना रंग दिखा ही दिया। भाजपा चाहती है कि जैसा उसका सियासी शिष्टाचार है, वैसा ही दूसरे दलों का भी हो जाए। लेकिन हम अपना राजनीतिक शिष्टाचार नहीं बदलेंगे। अगर कांग्रेस चोर बोल रही है, तो भाजपा चाहती है कि हम भी उसे चोर बोलें।

यहां बताना जरूरी है कि पूर्व सपा सरकार के शासनकाल 2012 से 2016 के बीच राज्य में हुए खनन घोटाला मामले में सीबीआई ने शनिवार को कई जिलों में डीएम रह चुकीं आईएएस अधिकारी बी.चंद्रकला के लखनऊ स्थित घर पर छापा मारा था।